Saturday , May 25 2019
Loading...
Breaking News

प्रॉपर्टी में नाम नहीं होने से थी परेशान अपूर्वा

एक वीडियो कॉल से प्रारम्भ हुई जंग ही रोहित शेखर की मृत्यु का कारण बनी. यह चौंकाने वाला तथ्य अपराध ब्रांच की जाँच में सामने आया है. अपराध ब्रांच की मानें तो जब रोहित उत्तराखंड से कार से दिल्ली लौट रहा था तो उस वक्त डिफेंस कॉलोनी स्थित घर में उपस्थित उसकी पत्नी अपूर्वा शुक्ला ने उसे वीडियो कॉल किया था. यह वीडियो कॉल ही अंतत: उसकी जान का कारण बना.

दरअसल, रोहित उत्तराखंड से जब लौट रहा था तो कार को उसका ड्राइवर अखिलेश चला रहा था. उसके साथ अगली सीट पर गोलू बैठा था, जबकि पीछे रोहित, उसकी महिला सम्बन्धी एनडी तिवारी के समय से उनका कार्य देखने वाला निगम नाम का एक शख्स बैठे थे. घटना वाली शाम जब अपूर्वा ने वीडियो कॉल किया तो उस वक्त उसे कार में वह महिला भी बैठी दिखाई दी. इसके बाद ही वह भड़क गई थी. दरअसल, उस महिला सम्बन्धी वह प्रारम्भ से ही खफा रहती थी. इतना ही नहीं, उस महिला के साथ ही रोहित शराब भी पी रहा था. इस बात ने उसे  भी भड़का दिया. हालांकि, वीडियो कॉल के दौरान तो उसने रोहित से इस बारे में कुछ ज्यादा नहीं कहा, लेकिन वह गुस्से में उसने पूरी बात किए बगैर ही फोन काट दिया था.

इस बीच रात करीब 10 बजे रोहित शेखर सहित कार में सवार महिला समेत अन्य चारों  दूसरी कार मे सवार रोहित की मां उज्जवला भी पहुंची. इस दौरान करीब आधे घंटे तक सभी डिफेंस कॉलोनी के घर में रहे. वह महिला, उसका पति  अन्य मेम्बर उज्जवला के साथ तिलक लेन स्थित घर में चले गए, जबकि रोहित अपने कमरे में चला गया. 

झगड़ा के बाद रोहित का गला घोट दिया
रोहित चूंकि रास्ते में शराब पीते हुए दिल्ली पहुंचा था. इस कारण वह बेहद नशे में था. इस बीच करीब सवा 12 बजे अपूर्वा उसके कमरे में गई तो वह नशे में लेटा हुआ था. अपूर्वा ने उससे पूछा कि वह कार में महिला के साथ शराब पी रहा था तो क्या वह भी शराब पी रही थी. इस पर रोहित ने जवाब दिया कि हां वह भी मेरे साथ शराब पी रही थी. हमदोनों एक ही गिलास में शराब पी रहे थे. शराब अगली सीट पर बैठा गोलू बना रहा था  उसी गिलास से मैं  वह महिला बारी-बारी से शराब पी रहे थे. इस बात को लेकर अपूर्वा एकदम से भड़क गई. इसके बाद वह रोहित से कहासुनी करते हुए इतने गुस्से में आ गई कि उसने रोहित का मुंह  नाक दबा दिया. फिर उसकी गला घोट कर मर्डर कर दी.

80 मिनट में सब कुछ हुआ
रोहित के कमरे में जाने  उससे कहासुनी करने से लेकर उसकी मर्डर तक सबकुछ 80 मिनट में हुआ. मर्डर रात के 1 बजे के आसपास हो गई थी. लेकिन, उसे इन्सोमेनिया था  अक्सर वह देर रात तक जगे रहते थे. इस कारण देर तक सोते रहने की उसे आदत थी. इसी का लाभ उठाते हुए अपूर्वा ने मां उज्ज्वला के पूछने पर यह कह दिया कि वह सो रहे हैं. इसके चलते लोगों को संदेह नहीं हुआ.

मायके वालों के लिए अलग घर की मांग
अपूर्वा  रोहित की पहली मुलाकात साल 2017 में हुई थी. दोनों एक मैट्रीमोनियल साइट के जरिए पहली बार लखनऊ में मिले थे. धीरे-धीरे दोनों में नजदीकी बढ़ी  इन्होंने विवाह कर ली. मगर विवाह के कुछ दिनों बाद से ही अपूर्वा का अपने मायके वालों के लिए रोहित से एक अलग मकान बनाने की मांग कर रही थी. ऐसा नहीं करने पर वह उससे झगड़ रही थी. मर्डरवाली रात भी अपूर्वा  रोहित के बीच इस मुद्दे को लेकर झगड़ा हुई थी.

रोहित की मां उज्ज्वला ने दो दिन पहले ही बोला था कि अपूर्वा की नजर प्रॉपर्टी पर थी. यह बात पुलिस की जाँच में भी सामने आई. दरअसल, अपराध ब्रांच के एडिशनल सीपी राजीव रंजन ने बोला कि चूंकि मां ने बेटो के नाम 60/40 की हिस्सेदारी में प्रॉपर्टी कर दी थी  वसीहत में यह साफ कर दिया था कि अगर एक लड़के की मृत्यु होती है तो उसकी स्थान दूसरे को हिस्सेदारी मिल जाएगी. इसमें अपूर्वा का कहीं भी जिक्र नहीं था. इस बात को लेकर अपूर्वा परेशान थी. इतना ही नहीं, रोहित के भाई जिसके हिस्से में 40 प्रतिशत की हिस्सेदारी थी. उसने विवाह नहीं की थी  उसने यह ऐलान भी कर दिया था कि वह अपना भाग उस महिला सम्बन्धी के बेटे के नाम कर देगा. इसे लेकर अपूर्वा बार-बार रोहित और उसके संबंध को लेकर सवाल उठाती थी.

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *