Saturday , May 25 2019
Loading...
Breaking News

मुस्लिमों की खिलाफत के लिये जाने गए ट्रंप ने व्हाइट हाउस में रखी इफ्तार पार्टी

मुस्लिमों की खिलाफत करके अमेरिकी राष्ट्रपति बने डोनाल्ड ट्रंप ने व्हाइट हाउस में दूसरी बार इफ्तार पार्टी का आयोजन कराया है अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने व्हाइट हाउस में अपना दूसरा वार्षिक इफ्तार रात्रिभोज आयोजित किया  बोला कि दुनियाभर के मुस्लिमों के लिए यह बहुत विषम परिस्थितियों है

एबीसी न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, रमजान माह में मुस्लिम समुदाय के दैनिक व्रत को तोड़ने वाला रात्रिभोज सोमवार रात आयोजित किया गया  इसमें मुस्लिम बहुल राष्ट्रों के कूटनीतिक प्रतिनिधियों  राजदूतों ने भाग लिया ट्रंप ने इस दौरान न्यूजीलैंड, श्रीलंका, कैलिफोर्निया  पिट्सबर्ग में हुए हमलों में मुस्लिमों की मृत्यु का उल्लेख किया

उन्होंने कहा, ‘उनकी याद में हम आतंकवाद की बुराई को हराने का संकल्प लेते हैं ‘ ट्रंप ने अपने सम्बोधन में दुनिया शांति पर जोर दिया उन्होंने कहा, ‘हम भगवानका धन्यवाद करते हैं कि अमेरिका एक ऐसी स्थान है जो इस विश्वास पर बना है कि सभी धर्मो के लोग साथ मिलकर सुरक्षा के साथ  आजादी से रह सकते हैं ‘

उन्होंने अपना सम्बोधन मुस्लिमों को शुभकामनाएं देते हुए समाप्त किया, ‘दुनियाभर के लोगों को रमदान करीम की बधाई ‘ पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन के कार्यकाल के समय से व्हाइट हाउस में इफ्तार भोज आयोजित किए जाते रहे हैं

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का बोलना है कि रमज़ान का पवित्र महीना समुदायों को साथ लाता है  लोग सहिष्णुता तथा शांति की कामना करते हुए एकजुट होते हैं उन्होंने बोला कि रमज़ान अमेरिकी  संसार भर के मुसलमानों के लिए पवित्र महीना होता है इस महीने में मुस्लिम समुदाय के लोग समुदाय सूरज निकलने से लेकर सूरज डूबने तक रोज़ा (व्रत) रखते हैं, भगवान की शिद्दत से इबादत करते हैं  नमाज़ पढ़ते हैं

राष्ट्रपति ने कहा, ‘रमज़ान में ज़कात (चैरिटी) दी जाती है  यह साथी नागरिकों की सेवा का समय होता है यह महीना परिवारों, पड़ोसियों  समुदायों को करीब लाता है ‘

व्हाइट हाउस के ‘स्टेट डाइनिंग रूम’ में अपने संक्षिप्त संबोधन में ट्रंप ने कहा, ‘रमज़ान में लोग सहिष्णुता  शांति की उम्मीद में एक साथ जुटते हैं इसी भावना में, हम आज रात इफ्तार के लिए इकट्ठा हुए हैं इफ्तार, रोज़ा खोलने के समय को कहते हैं ‘

उन्होंने कहा, ‘आज शाम, हमारी संवेदनाएं धर्मालंबियों के साथ हैं जिन्होंने हाल के हफ्तों में कई कठिनाइयों का सामना किया है यह बहुत ज्यादा कठिन वक्त रहान्यूजीलैंड की मस्जिदों में मारे गए मुस्लिमों के लिए हमारे दिलों में गहरी पीड़ा है साथ-साथ हम श्रीलंका, कैलिफोर्निया  पिट्सबर्ग के ईसाइयों, यहूदी  भगवान की अन्य संतानों की मृत्यु को लेकर भी दुखी हैं ‘

ट्रंप ने आतंकवाद  धार्मिक अत्याचार को समाप्त करने का संकल्प भी जताया ताकि लोग बिना भय  खतरे के उपासना और प्रार्थना कर सकें अमेरिकी राष्ट्रपति हर वर्ष रमजान के पवित्र महीने में आमंत्रित अतिथियों के लिए इफ्तार की दावत देते हैं

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *