Saturday , May 25 2019
Loading...
Breaking News

कार्बाइड से पकाए जा रहे हैं आम की ऐसे करे पहचान, जरुर पढ़े

कहते हैं कि मेहनत का फल मीठा होता है लेकिन आजकल फलों में केमिकल भी इसलिए ही डाला जा रहा है ताकि वह जल्दी पककर मीठे हो सकें. इसलिए इस गर्मी के सीजन में फल खरीदने से पहले जाँच लें कि इन्हें पकाने में केमिकल और मसालों का सहारा तो नहीं लिया गया. अभी मार्केट में बिक रहे ज्यादातर आम कार्बाइड से पकाए जा रहे हैं क्योंकि इतनी जल्दी आम मार्केट में नहीं आते हैं.

क्या है नियम
फलों को पकाने में कार्बाइड का प्रयोग खाद्य संरक्षा और मानक अधिनियम-2011 की धारा 2.3.5 के तहत बैन है. इसका भंडारण, सेल, मार्केटिंग या इम्पोर्ट करने वालों के लिए सजा का प्रावधान भी है. ऐक्ट के अनुसार किसी भी फल को केमिकल लगाकर नहीं पकाया जा सकता. कार्बाइड से पकाया गया आम या कोई भी फल शरीर को नुकसान पहुंचाता है. उन्होंने बोला कि कोई मिलावटखोर या फल विक्रेता केमिकल से फलों को पका रहा है तो इसकी सूचना विभाग को की जा सकती है.

क्यों करते हैं केमिकल का इस्तेमाल
फलों को समय से पहले पकाने तथा सब्जियों का आकार और वजन बढ़ाने के लिए रसायन (केमिकल्स) का प्रयोग किया जाता है. आम, केला और अन्य फलों को पकाने के लिए कैल्शियम कार्बाइड का प्रयोग आम है. फलों और सब्जियों को तरोताजा रखने, चमकाने और इन्हें ज्यादा दिन तक टिकाए रखने के लिए मोम औरकृत्रिम रंगों का भी प्रयोग होता है.

क्यों है कार्बाइड हानिकारक
भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (FSSAI) के अनुसार, कैल्शियम कार्बाइड में आर्सेनिक और फॉस्फोरस होते हैं. पानी के सम्पर्क में आने पर इससे एसीटिलीन गैस (जिसे आमतौर पर कार्बाइड कहते हैं) निकलती है. कैल्शियम कार्बाइड में कैंसरकारी तत्व होते हैं. इससे नाड़ी तंत्र प्रभावित होने कि सम्भावना है. इस कारण सिरदर्द, चक्कर आना, दिमागी विकार, अत्यधिक नींद आना, मानसिक उलझन, याददाश्त कम होना, दिमागी सूजन और मिर्गी की शिकायत हो सकती है.

कैसे बचें केमिकल वाले फलों से
– कृत्रिम रूप से पके फलों में धब्बा तथा अप्राकृतिक चमकीला रंग होता है.
– जो आम कार्बाइड से पकाया जाता है इसके प्रयोग से 2-3 दिन के भीतर ही फल का रंग पीले से काला होने लगता है.
– कार्बाइड से पकाए फल का स्वाद बीच में मीठा लेकिन किनारे में कच्चा होता है.
– बगैर धब्बे वाले फल-सब्जी खरीदें.
– प्राकृतिक रूप से पके केले का डंठल यानी ऊपरी भाग काला पड़ जाता है  केला पीला होता है और उस पर भूरे रंग के धब्बे पड़ जाते हैं.
– फल और सब्जियों को खाने से पहले छीलना कीटनाशक का असर कम करता है.
– संभव हो तो ऐसे वेंडर से ही फल-सब्जी खरीदें जिनको आप जानते हों.
– खाने से पहले फल-सब्जियों को साफ पानी से अच्छे से धोएं.

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *